UP बीजेपी एक बुकलेट छाप रही है जिसमें कोरोना काल में बेहतर मैनेजमेंट का महिमामंडन होगा

0
56
yogi-adityanath_
Image: NDTV.com

बीजेपी द्वारा तैयार किया जा रहा है कोरोना प्रबंधन का यूपी मॉडल

पिछले कुछ समय में महामारी के चलते कोरोना संक्रमण के मुद्दे पर विपक्षी पार्टी द्वारा रूलिंग पार्टी पर मैनेजमेंट को लेकर काफी सवाल उठाए गए। ऐसे में रूलिंग पार्टी का कोरोना संक्रमण को रोकने का प्रयास जनता के सामने आते-आते रह गया। इसी  बात को ध्यान में रखते हुए यूपी में योगी आदित्यनाथ सरकार द्वारा कोविड-19 प्रबंधन पर विपक्ष के निरंतर मजाक का मुकाबला करने के लिए “कोरोना प्रबंधन के यूपी मॉडल” की बुकलेट तैयार की जा रही है। यूपी भाजपा के प्रवक्ता हीरो बाजपेई के मुताबिक यह 5 पन्नों की बुकलेट से भाजपा पार्टी कार्यकर्ताओं को राज्य प्रशासन द्वारा महामारी से निपटने के सवालों के जवाब देने में मदद मिलेगी। यूपी के हित में यूपी सरकार कोविड-19 प्रबंधन पर 5 पेज की बुकलेट तैयार कर रही है जिसमें 20 खंड हैं और प्रत्येक खंड में 3 बुलेट बिंदु हैं साथ ही पार्टी कार्यकर्ताओं पर संकट को कम करने के लिए राज्य के प्रयासों के बारे में लोगों तक पहुंचाने के लिए कहा गया है। पार्टी के सभी पदाधिकारियों, वरिष्ठ नेताओं, विधायकों और मंत्रियों को यह बुकलेट भेजी जाएगी ताकि वह इसे आगे लोगों तक पहुंचा सकें।

आपको बता दें कि समाजवादी पार्टी, आम आदमी पार्टी और कांग्रेस जैसी पार्टियों ने ऑक्सीजन की कमी और अस्पतालों में बेड की अनुपलब्धि को लेकर राज्य सरकार पर अप्रैल और मई में कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान हमला किया था। उन्होंने बेड और ऑक्सीजन की कमी को लेकर सोशल मीडिया पर सवाल उठाए। यहाँ तक कि गंगा के तट पर अधिक वजन वाले श्मशान और शवों की छवियों को सोशल मीडिया पर साझा कर दिया गया। उस समय पहले ही लोगों को परेशानियों से जूझना पड़ रहा था ऊपर से ऐसी छवि देखकर तो जैसे लोगों की उम्मीद टूटने से लगी थी। विपक्षी पार्टियों के इस हमले का जवाब यूपी सरकार इस बुकलेट द्वारा देगी। बुकलेट में कोविड-19 की दूसरी लहर से निपटने के लिए अधिकारियों द्वारा उठाए गए कदमों के बारे में सारी जानकारी मौजूद है। यह बुकलेट यूपी सरकार द्वारा अप्रभावी कोविड-19 प्रबंध पर विपक्ष के आरोपों का मुकाबला करने में मदद करने के लिए ही तैयार की जा रही है।

बुकलेट में 20 खंड है और प्रत्येक खंड में 3 बुलेट बिंदु :

बुकलेट के 20 खंडों में महामारी में घर-घर जाकर की गई स्क्रीनिंग, उपचार, टीकाकरण, आक्रमक परीक्षण अभियान, ऑक्सीजन सप्लाई, टीम 9 प्रक्रिया समूह का गठन, संभावित तीसरी लहर की तैयारी जैसे कई जानकारियाँ शामिल की गई हैं। योगी सरकार की दूसरी लहर में भागीदारी सहित और भी कई चरणों की सूची है। बुकलेट के अनुसार राज्य के अस्पतालों में ऑक्सीजन की आपूर्ति दूसरी लहर में 250 मीट्रिक टन से बढ़ाकर अब 1000 मीट्रिक टन की गई है। साथ ही 75 जिलों में पोस्ट कोविड वार्ड स्थापित किए जाने का दावा भी किया गया है। महामारी के संक्रमण को रोकने के लिए मुख्यमंत्री द्वारा अप्रैल में नियुक्त टीम द्वारा किए गए उपायों पर हाईलाइट भी किए गए हैं।

बुकलेट में यह भी दावा किया गया है कि सरकार के पास वर्तमान में 4 लाख वालंटियर कोविड-19 के लिए 73,441 निगरानी समिति है। इसके अलावा राज्य में कम परीक्षण के विपक्ष के आरोप का मुकाबला करते हुए बुकलेट में यह दावा किया गया है कि अप्रैल 2020 से जून 2021 तक यूपी में 5.6 करोड़ से अधिक कोविड परीक्षण किए गए हैं जो की जनसंख्या का लगभग 30% हिस्सा है।

यह भी पढ़ें : क्या योगी सरकार 2022 चुनाव जीत पाएगी ?

बुकलेट में यह भी कहा गया है कि योगी सरकार ने 1 साल में सबसे ज्यादा गेहूं खरीदने का रिकॉर्ड बनाया है जिसमें यूपी ने 1 अप्रैल से 12 जून के बीच 11.54 लाख से ज्यादा किसानों से करीब 51.05 लाख टन गेहूं खरीदा था। यूपी में जून के पहले हफ्ते में 1 दिन में तीन लाख से ज्यादा टेस्ट हुए और यह भी एक रिकॉर्ड के रूप में सामने आया। साथ ही अप्रैल 2020 से जून 2021 तक 97000 से अधिक गांव में स्क्रीनिंग की गई है।

दस्तावेज को प्रसारित करते हुए एक नेता का यह कहना था कि यूपी की आबादी ज्यादा होने के बावजूद उन्होंने बेहतर काम किया है और जो वर्कर्स कोविड-19 में हुए मैनेजमेंट से निराश हैं वह यह दस्तावेज जरूर पढ़ें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here