मुख्यमंत्री ने वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से अधिकारियों को दिये निर्देश।

0
18
nic raebareli

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोविड-19 के दृष्टिगत रखते हुए विकास व निर्माण कार्यो को युद्ध स्तर पर तेजी से संचालित करने के निर्देश दिये है। ग्राम सचिवालय, ग्राम पंचायतों के लिए उपहार है। एक ग्राम सचिवालय के लिए 20 लाख का बजट है। इस बजट में अच्छा भवन स्थापित होगा। इससे ग्रामों में बरातघर आदि सहित अन्य कार्यो में भी ग्रामीण इस्तेमाल कर सकते है। जिला प्रशासन जप्रतिनधियों से बेहतर समन्वय स्थापित करते हुए भूमि चिन्हित कर ग्राम सचिवालय के निर्माण कराये। विकास व निर्माण कार्य को गुणवत्तापूर्ण, मानक के अनुरूप समयबद्ध तरीके से पूर्ण किये जाए। कार्यो को समय रहते हुए पूर्ण किये जाने पर जहां लागत में कमी होती है, वहीं जनता को योजनाओं एवं परियोजनाओं का समय से लाभ भी मिलता है। यह निर्देश प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री आदित्नाथ ने लखनऊ मण्डल के जिला रायबरेली, लखनऊ, सीतापुर, उन्नाव, लखीमपुर खीरी जनपदों के विकास कार्यो की समीक्षा वीडियों काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से करते हुए निर्देश दिये। आमजनमानस को घर, शौचालय व राशन से वंचित न रहे इस पर विशेष ध्यान देते हुए स्वयं सहायता समूहों की मदत लेते हुए शासन की योजनाओं से जनसामान्य को लाभान्वित किया जाए, तथा पात्र व्यक्तियों के राशन कार्ड नियमानुसार बनाये जाए। प्रधानमंत्री ग्रामीण व शहरी व मुख्यमंत्री आवास योजना का लाभ पात्र व्यक्तियों को दिलाया जाए।

आपको बता दें कि, मुख्यमंत्री योगी आदित्नाथ द्वारा वीडियों काॅन्फ्रेंसिंग के माध्यम से लखनऊ मण्डल के जनपदों की समीक्षा में जनपद के जिलाधिकारी वैभव श्रीवास्तव, एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह, विधायक दल बहादुर कोरी तथा घरों से वीडियों काॅन्फ्रेंसिंग कर रहे, विधायक धीरेन्द्र बहादुर सिंह, राकेश कुमार सिंह, राम नरेश रावत भी आॅनलाइन रहे। लखनऊ मण्डल में विकास कार्यो की समीक्षा बैठक निर्माणाधीन परियोजनाओं के लिए धनराशि नियमानुसार और समय से निर्गत किये जाने के निर्देश देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि, धनराशि के अभाव में निर्माण कार्य बाधित नही होना चाहिए। विकास परियोजनाओं की भौतिक प्रगति के सम्बन्ध में यूटिलाइजेशन सर्टिफिकेट समय से प्रेषित किये जाए, जिससे धनराशि शासन द्वारा समय से निर्गत की जा सके। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनपद रायबरेली सहित लखनऊ मण्डल के जनपदों के जनप्रतिनिधियों से संवाद किया, और जनपद सहित मण्डल में संचालित परियोजनाओं की प्रगति के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की। विकास योजनाओं की प्रगति के सम्बन्ध में फीडबैक प्राप्त करते हुए जनप्रतिनिधियों द्वारा मुख्यमंत्री का आभार भी प्रकट किया गया, और कहा कि, मुख्यमंत्री द्वारा तेजी से विकास कार्यो के संचालन में वर्तमान सरकार के समय में लखनऊ मण्डल सहित प्रदेश का जितना विकास हुआ उतना कभी नही हुआ है। भूजल में आर्सेनिक फलोराइड से प्रभावित क्षेत्रों के लिए कार्य योजना बनाए जिससे इस समस्या का स्थानीय समाधान हो सके।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिला प्रशासन और जनप्रतिनिधियों से बेहतर समन्वय बनाते हुए विकास की गति में तेजी लाने के निर्देश के साथ ही शिलान्यास तथा लोकार्पण कार्यो को जनप्रतिनिधियों द्वारा ही कराया जाए। परियोजनाओं से जनप्रतिनिधियों को जोड़ते हुए उनके नाम शिलापट्ट पर अंकित किये जाए। मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देश दिये है कि, आगामी पर्वाे को ध्यान में रखते हुए जनसामान्य लोगों को कोविड-19 कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव व रोकथाम के लिए विशेष रूप से जागरूक किया जाए। तथा आगामी पर्व व त्योहारों को सोशल डिस्टेसिंग व फेस कवर/मास्क का प्रयोग व स्वास्थ्य प्रोटोकाॅल का पूर्ण पालन करते हुए घरो पर रहकर ही त्योहार मनाये जाए, एवं कोई भी सार्वजनिक आयोजन न किये जाए पर भी जोर दिया गया। पर्वो व त्योहारों के पूर्व ही सड़कों को गड्ढामुक्त किये जाने तथा नवनिर्माण कार्यो को गुणवत्तापूर्ण ढंग से किए जाने के निर्देश देते हुए कहा कि, स्मार्ट सिटी व अमृत योजना के कार्यो की गति बढ़ाए।

तकनीकी आधारित व्यवस्थाओं को अपनाते हुए योग्य एवं अनुभवी चिकित्सकों द्वारा अधिक से अधिक गम्भीर रोगियों का बेहतर इलाज सुनिश्चित किया जाए, तथा कोरोना संक्रमण आदि बीमारियों की रोकथाम के लिए कारगर रणनीतियां अपनाते हुए कार्य किये जाए। कोरोना से लड़ना भी है और तेजी से विकास कार्य संचालित करने हैं। इसके दृष्टिगत वैश्विक महामारी कोरोना से बचाव के लिए पूरी सतर्कता व सावधानी अपनाते हुए तथा कोविड-19 गाइडलाइन का पालन करें, तथा कोविड कन्ट्रोल रूम में आने वाली शिकायतों को त्वरित गुणवत्तापूर्ण निस्तारण करें। कन्टेनमेन्ट जोन को प्रभावी ढ़ंग से रखें। इण्टीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कंट्रोल सेन्टर हर जनपद में 24 घण्टे सक्रिय रहें। होम आइसोलेशन में रह रहे कोविड मरीजों से प्रतिदिन बेहतर संवाद स्थापित कर उसका कुशलक्षेम पूछा जाये। यदि कोई समस्या हो तो तत्काल निराकरण करने के साथ ही संवेदशील कैटेगरी के लोगों पर फोकस करते हुए उनकी टेस्टिंग की जाये।

हाई रिस्क लोगों के एण्टीजेन टेस्ट निगेटिव आने पर उनका आर0टी0पी0सी0आर0 कराते हुए रोग की स्थिति को कन्फर्म किया जाए। कोविड-19 कोरोना संक्रमण में कमी लाते हुए कमी लाए तथा मृत्युदर को एक प्रतिशत से कम करने के लिए हर संभव प्रयास किये जाए। जनपद की सर्विलांस टीमें पूरी तरह से सक्रिय रहे तथा एम्बुलेंस सेवाए बेहतर ढंग से संचालित होने के साथ ही कोविड-19 के पाॅजिटिवविटी रेट न्यूनतम रखने के लिए जरूरी उपाय अपनाये जाए तथा पूरी सतर्कता बरती जाए। कोविड-19 प्रोटोकाॅल और सोशल डिस्टेसिंग का पालन करते हुए 1 अक्टूबर 2020 से शुरू होने वाली धान क्रय केन्द्रों पर सुगम व्यवस्था की जाए। किसान को न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम धनराशि न मिले, इस पर विशेष ध्यान दिया जाए। लखनऊ में कैंसर अस्पताल तैयार हो गया है, जिसका शीघ्र लोकापर्ण होगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, ओ0डी0ओ0पी0 के तहत चयनित उत्पादों को बढ़ावा दिया जाए के निर्देश दिये और उत्पादों के सम्बन्ध में हस्तशिल्पों को प्रशिक्षित करें तथा प्रदर्शनी व मार्केंटिग के माध्यम से उन्हें बढ़ावा दिया जाए। खाद्यान्न भण्डारण हेतु गोदाम, कोल्ड स्टोरेज निर्माण आदि पर जोर दिया जाए, तथा बेरोजगारों व कामगारों को आत्मनिर्भर योजना में सम्मिलित कर उन्हें स्वरोजगार उपलब्ध कराया जाए। केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा संचालित विकास एवं कल्याणकारी योजनाओं के माध्यम से प्रदेश की जनता को लाभांवित करें। जिसके लिए सरकार लगातार प्रतिबद्ध है।

यही नहीं लापरवाही व उदासीनता बरते जाने पर जवाबदेही तय की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कानून व्यवस्था के बारे में कहा कि, हर घटना की सूचना पर तत्काल जिम्मेदार अधिकारी पहुंचे और पीड़ितों की मदद करें। घरेलू हिंसा या महिला उत्पीड़न तथा अन्य महिलाओं से जुड़े मामलों में पुलिस अत्यधिक गम्भीर रहे। वरिष्ठ नागरिकों का पुलिस तन्त्र सम्मान करें। अवैध शराब कारोबार पर सख्ती बरती जाए और आमजन मानस को बेहतर सुख सुविधाओं व सुरक्षा के बीच रखे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, विकास कार्यो में जनप्रतिनिधियों को जोड़ा जाए। राजस्व संग्रह पर विशेष ध्यान दिया जाए, जीएसटी के तहत व्यापारियों का अधिक से अधिक पंजीकरण कराया जाए। उन्होंने जिलाधिकारियों को राजस्व संग्रह की विभागवार निरन्तर समीक्षा करने के भी निर्देश दिये। खाद की कालाबाजारी करने वाले तत्वों के खिलाफ सख्त कार्यवाही करते हुए उर्वरक आपूर्ति की प्रभावी देख रेख की जाए। कोविड-19 के प्रोटोकाल का पालन कराते हुए सम्पूर्ण समाधान दिवस व थाना दिवस आयोजित किये जाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि, सामुदायिक शौचलयों के लिए ऐसे स्थल का चयन किया जाए जिससे अधिक से अधिक लोग इसका उपयोग कर सकें। सामुदायिक शौचलयों की नियमित सफाई की व्यवस्था भी सुनिश्चित की जाए। प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री आवास योजना के निमाण कार्यो तथा स्वच्छ भारत मिशन में निर्मित शैचालयों की जियों टैगिंग कराने के निर्देश भी दिये। उन्होनें कहा कि, गौ-आश्रय स्थलों को सुवयवस्थित ढंग से संचालित किया जाए।

Also Read : एलआइसी एजेंट को जमकर पीटा; वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल, दो लोगों के खिलाफ केस दर्ज

जिलाधिकारी वैभव श्रीवास्तव, एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह, विधायक दल बहादुर कोरी आॅनलाइन रहे। धीरेन्द्र बहादुर सिंह, राकेश कुमार सिंह, रामनरेश रावत ने जनपद में चल रहे व पूर्ण किये गये निमार्ण व विकास कार्यो की जानकारी दी। एमएलसी ने रायबरेली से प्रयागराज मार्ग मे मुंशीगंज सई नदी पर बने पुल के बारे में बताया कि, पुल बहुत सकरा व जर्जर है। नये पुल के निर्माण की जरूरत है। इस पर मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि, जनपद से पुल सहित अन्य आवश्यक विकास कार्यो के प्रस्ताव जनप्रतिनिधियों से वार्ता कर शासन को भेजे, जिससे जनसामान्य को शीघ्र लाभ प्राप्त हो सके।

इस मौके पर मुख्य विकास अधिकारी अभिषेक गोयल, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 वीरेन्द्र सिंह, एडी सूचना प्रमोद कुमार, रायबरेली विकास प्राधिकरण के अधिकारी ए0के0 राय आदि प्रमुख अधिकारी उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here